Thursday, February 21, 2013

जिम कॉर्बेट की किताब 'मेरा हिन्दुस्तान' से

'ज़िन्दगी में तदवीरें तो हम बहुत करते हैं लेकिन उनमें से कुछ अगर तकदीर के हाथों ख़त्म हो जातीं हैं तो मुझे पता नहीं कि इस बात से हमें दुखी होना चाहिए या नहीं।'

---जिम कॉर्बेट की किताब 'मेरा हिन्दुस्तान' (page 70) से...
_श्री .