Sunday, May 5, 2013

ओस की बूँद - राही मासूम रजा

"ओस की बूँद"
लेखक _ राही मासूम रजा
मैंने अभी कुछ दिनों पहले (यात्रा के पहले ही दिन यानी 25-अप्रैल को ही गाडी में पूरा पढ़ लिया था!) ही पूर्ण किया!
कैसा लगा?
यह एक स्वाभाविक प्रश्न है जिसे हरेक मित्र पूछना चाहेंगे; जिन्होनें मुझे इस किताब को पढने की प्रेरणा दी, और पहले इसे ही पढने को प्रेरित किया! __अगर साफगोई से काम लूँ और अपनी अंतरात्मा की आवाज़ को निष्पक्ष, निश्छल, और निर्मल मन से सच और सिर्फ सच बोलूं तो ये बोलूँगा :



d £ x Ä ³
p N t K ´
V B M < .k
r Fk n /k u
i Q c Ò e
; j y o ’k
"k l g {k = K
_ # : ) } Á
Â Ì Í Î Ñ Ó Ô
Ø Ý à á â ã ä
å ç é ê ë ì ì í î ï ð ò ñ ó ô ö ÷ ù ˜ – — G J
v vk b à m Š, ,s vks vkS va v%
क का कि की कु कू के कै को कौ कं कः 
च चा चि ची चु चू चे चै चो चौ चं चः 
ह हा हि ही हु हू हे है हो हौ हं  .......................................
1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 
 

A B C D 
E F G H 
I J K L 
M N O P
Q R S T 
U V W X 
Y Z
1 2 3 4 5 6 7 8 9 10........................................................



“GIVE ME SOME SUN SHINE, GIVE ME SOME RAYS,…..GIVE ME ANOTHER CHANCE  _I WANNA GROWN UP ONCE AGAIN………….!” 

किसी की शझ में कुछ नहीं आया तो मैं क्या करूँ ! ऐएं!!?